RSS

आपरेशन ग्रीन हण्ट के खिलाफ एक गांधीवादी का अनशन

05 Jan

03 January,  नई दिल्ली

प्रसिद्ध गाँधीवादी कार्यकर्ता व विचारक हिमांशु कुमार 26 दिसम्बर से बस्तर में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर चले गये हैं। उनकी मांग है कि बस्तर क्षेत्र में आदिवासियों के दमन के लिए तैनात सेना को वापस बुलाया जाय तथा बस्तर क्षेत्र में माओवाद के नाम पर आदिवासियों का दमन करना बन्द किया जाय। हिमांशु कुमार की मांग और भूख हड़ताल को समर्थन देने के लिए देश में अन्य हिस्सों से भी विभिन्न कार्यक्रमों की सूचना मिल रही है। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में, जो कि प्राकृतिक संसाधनों से भरा है, सरकार `माओवाद के खात्में´ का नाम लेकर `ऑपरेशन ग्रीन हण्ट´ नाम का अभियान चला रही है। इस अभियान के लिए वहाँ सैन्य टुकड़ियां तैनात की गयी हैं,जो कि वहां के आदिवासी निवासियों पर बर्बर जुल्म कर रही हैं। सेना के दमन से बचने के लिए आदिवासी अपना जल-जंगल जमीन छोड़कर दूसरे क्षेत्रों में भाग रहे हैं। देश के बुद्धिजीवियों का मानना है कि वास्तव में यह अभियान सरकार माओवादियों से निपटने के लिए नहीं बल्कि इलाके को खाली कराने के लिए ही चला रही है ताकि यहां के प्राकृतिक संसाधनों को बड़े-बड़े कॉरपोरेट घरानों को आसानी से बेचा जा सके, जबकि आदिवासियों का प्रतिरोध इसमें बड़ी बाधा बन रहा था। इस अभियान को शुरू करने से पहले ही सरकार ने आदिवासियों का साथ देने वाले लोगों पर हमला करना शुरू कर दिया था। पहले विनायक सेन को गिरफ्तार किया, फिर अजय टी.जी. को इसी क्रम में छत्तीसगढ़ पुलिस ने दक्षिण बस्तर क्षेत्र में आदिवासियों के लिए काम करने वाले गांधीवादी आश्रम वनवासी चेतना आश्रम को 27 मई को पूरी तरह तहस-नहस कर दिया व इसके संयोजक हिमांशु कुमार को लगातार वहां काम करने से रोका जा रहा है, व धमकियां दी जा रही हैं। वनवासी चेतना आश्रम के लोग जब आदिवासियों को समझा-बुझा कर गांव में वापस ला रहे हैं तो फिर से सेना व पुलिस के लोग उन्हें माओवादी बताकर उनका दमन कर रहे हैं और उन्हें विस्थापित होने के लिए मजबूर कर रहे हैं। इन सब के विरोध में हिमांशु कुमार 26 दिसम्बर से भूख हड़ताल पर बैठ गये हैं।(पीएनएन) दी जा रही हैं। वनवासी चेतना आश्रम के लोग जब आदिवासियों को समझा-बुझा कर गांव में वापस ला रहे हैं तो फिर से सेना व पुलिस के लोग उन्हें माओवादी बताकर उनका दमन कर रहे हैं और उन्हें विस्थापित होने के लिए मजबूर कर रहे हैं। इन सब के विरोध में हिमांशु कुमार 26 दिसम्बर से भूख हड़ताल पर बैठ गये हैं।

(पीएनएन
 

 

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on January 5, 2010 in Uncategorized

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: